Home » difference between journal and ledger in hindi

difference between journal and ledger in hindi

जर्नल और खाताबही के बीच अंतर 

difference between journal and ledger in hindi :- जर्नल में सभी लेन – देनो को सबसे पहले पुस्तकों में लेखा किया जाता है, इसको हम प्रारम्भिक प्रविष्टि की पुस्तक भी कहते है।  जबकि खाताबही में जर्नल और सहयक पुस्तकों में की गयी entry के बाद में खाताबही में खातौनी की जाती है। इसको हम अंतिम प्रविष्टि की पुस्तक भी कहते है।

व्यवसयिक लेन – देनो को जिस पुस्तकों में लिखा जाता है, उसको प्रारम्भिक प्रविष्टि की पुस्तके या फिर विशेष उदेश्य वाली सहायक बहियाँ कहते है। और सहयका बहियों में लिखे गए इन लेन -देनो की खाताबही में अलग – अलग खातों में खतौनी की जाती है। इससे ये भी स्पष्ट होता है की खाताबही वय्वसाय की एक अहम् बही है क्यूंकि इसमें व्यवसाय के सभी खाते खोले जाते है।

हम प्रारम्भिक प्रविष्टि की पुस्तके या जर्नल  और खाताबही में और  अधिक अंतर को इस Table के माध्यम से समझते है।

DIstinction between “Books of original entry” and “Ledger” in hindi

 

S.No – जर्नल और प्रारम्भिक प्रविष्टि की पुस्तकें
(Journal or Books of originial Entry)
खाताबही
(Ledger )
1.इसमें लेन – देनो को जैसे जैसे complete होते जाते है तिथिवार लिखते जाते है , अतः इन पुस्तकों से किसी विशेष समय पर किसी विशेष खाते की स्थिति ज्ञात नहीं हो सकती है। इसमें लेन -देनो को वर्गीकृत करके लिखा जाता है यानी एक विशेष खाते से सम्बंधित सभी लेन – देन खाताबही में एक ही स्थान पर होते है।
2.इनमे लेन – देन का एक पूर्ण विवरण व्याख्या सहित लिखा जाता है। इसमें लेन – देन का पूर्ण विवरण व्याख्या सहित नहीं लिखा जाता।
3.इनकी सहायता से अंतिम खाते जैसे व्यापारिक खाता, ;लाभ – हानि खाता और स्थिति विवरण नहीं बनाये जा सकते है। खाताबही की सहायता से अंतिम खाते बनाये जा सकते है
4.इसमें लिखे गए लेखे कानून के अनुसार अधीक प्रामाणिक माने जाते है ऐसा इसलिए क्यूंकि अनमे लेके प्रारम्भ में ही किये जाते है। यह कानून के दृष्ट्कोण से प्रारम्भिक पुस्तकों (जर्नल ) की तुलना में कम प्रामाणिक है क्यूंकि इसमें लेके बाद में किया जाता है।
5.प्राम्भिक प्रविष्टि की पुस्तकों में लेन -देनो का लेखा करने की प्रक्रिया को जर्नल में लिखना कहा जाता है। खाताबही मे लिखने की प्रक्रिया को खतौनी कहते है।
6.इस पुस्तकों मे लेन – देन का पन्ना नंबर (Ledger folio or L.F.) लिखा जाता है। खाताबही में जर्नल और सहयक बहियों का पन्ना नंबर (Journal Folio or J.F.) लिखा जाता है।
7.इस पुस्तक में हम शुद्धता की जांच नहीं कर सकते है। खाताबही के खातों की सुधता की जाँच परीक्षा सूचि या फिर तलपट बनाकर की जा सकती है।

Read also this :- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *