Home » Accounting Process class 11 in hindi

Accounting Process class 11 in hindi

accounting process class 11 in hindi

What is Process of accounting in hindi 

Accounting process class 11 in hindi :- accounting process व्यावसयिक लेन -देनो और उनकी पहचान करने की प्रक्रिया है , और इसमें हम लेन -देनो को वर्गीकृत भी करते है और उसका सारंश भी बनाते है , इसके अंदर हम लाभ -हानि खाता और स्थिति विवरण भी बनाते है।

Steps of Process Accounting ( Accounting process class 11 in hindi ) 

लेखांकन प्रक्रिया के अंदर हम निम्नलिखित steps follow करते है :-

  1. लेनदेनों की पहचान करना
  2. प्रमाणक ( Vouchers ) तैयार करना
  3. सभी Entry को पुस्तक में लेखा करना
  4. खाताबही में posting करना
  5. परीक्षा सूची और वित्तीय विवरणं तैयार करना

1. लेनदेनों की पहचान करना ( Identification of Transactions )

जैसा की हम जानते है की , लेखांकन में हम उन्ही लेनदेनों को पुस्तकों में लिखते है जो की मौद्रिक होते है , और हम उसका लेखा नहीं करते जिसको हम मुद्रा में नहीं माप सकते है लेन देनो में हम उन्ही का लेखा करते है जो की प्रमाणिक होता है , जैसे की कैश मीमो , क्रय बीजक , विक्रय बीजक , जमा पर्ची , चेक बुक , passbook , आदि

2. प्रमाणक तैयार करना ( Preparation of Vouchers )

मूल प्रलेखो के अनुसार सभी Entry को सबसे पहले vouchers तैयार किया जाता है , इसके बाद इन्ही प्रमाणको के आधार पर जर्नल और प्रारम्भिक प्रवष्टि ( Entry ) को पुस्तकों में लेखा किया जाता है ,  प्रमाणक को सभी कंपनी अपने अनुसार print करवा सकती है , लेकिन प्रत्येक लेन देनो का एक अलग से प्रमाणक तैयार किया जाता है , और यह भी प्रदर्शित किया जाता है की कौन सा खाता डेबिट किया जाना है और कौन सा क्रेडिट किया जाता है , और सभी प्रमाणक को उसके मुख्य entry page पर छिपका दिया जाता है। Accounting Process class 11 in hindi

3. प्रारम्भिक प्रविष्टि की पुस्तकों में लेखा करना ( Recording in books of original Entry )

हम जानते है की सभी व्यवसियिक लेन – देनो का प्रमाणक और उसके मूल प्रलेखो के अनुसार पुस्तकों में लेखा किया जाता है और इसको हम ” प्रारम्भिक प्रवष्टि की पुस्तके ” भी कहते है , इसी तरह journal और रोहनामचा एक ऐसा ही पुस्तक है , जिसमे प्रारम्भिक लेनदेनों की हम Date के अनुसार Double Entry system को follow करके लेखा करते है , starting में जब किस व्य्वसाय का अकार छोटा होता है तो इस समय सभी लेनदेनों का लेखा journal में किया जाता है , और जब व्यवसाय का आकर बड़ा हो जाता है ,Accounting Process class 11 in hindi

तो लेनदेनों की संख्या भी बढ़ने लगती है , इस कारण हम इसको आसान बनाने के Journal को अनेक पुस्तकों के विभाजन कर देते है  जिसको हम sub – journals कहते है ,जैसे की हम cash book बनाते है , purchase book बनाते है , और sales book बनाते है , हम अपने काम के अनुसार भी अधिक books बना सकते है और लेनदेनों के journal के स्थान पर विशेष जॉर्नलो में लेखा को पुस्तपालन की वहवाहरिक विधि कहते है।Accounting Process class 11 in hindi

जाने Accounting Standards कितने तरह के होते है यहां क्लिक करें 

4. खाताबही में खतोनी करना ( Posting to ledger )

लेखांकन process में अगला step सभी सहायक पुस्तकों में की गयी Entries को खाताबही में इनसे सम्बंधित खातों में हस्तान्तरित करना है , जैसा की हम जानते है की खाताबही एक मुख्य पुस्तक है , जिसके अंदर हम सभी लेनदेनों को भाग के अनुसार रखते है , और सभी लेनदेनों की उनके नाम से बने खाता में ही रखते है , जिससे की हमें कोई भी खाता देखने पर उसके सभी सम्बंधित लेनदेन स्पष्ट हो जाये ,Accounting Process class 11 in hindi

इस वजय से खाताबही में सभी वयक्तियो के लिए अलग अलग खाता खोला जाता है , या फिर वो हमारा कोई customer हो या फिर supplier हो , इसी तरह दायित्व , सम्पतिया , क्रय , विक्रय , आदि के सभी अलग – अलग accounts खोले जाते है  और जर्नल में लिखी गयी सभी व्ययो और आयो को भी खाताबही में अलग -अलग खोले जाते है, जर्नल मे लिखी गयी सभी आयो और व्ययों को भी खाताबही मे अलग – अलग भाग में वर्गीकृत किया जाता है जैसे वेतन खाता, किराया खाता, कटौती खाता , आदिAccounting Process class 11 in hindi

5. परीक्षा सूची और वित्तीय विवरण तैयार करना

लेखांकन process मे last step खाताबही के खाते के शेष निकालना और इन शेषों की मदद से परीक्षा सूची या फिर trail balance तैयार किया जाता है, trail balance खाताबही के खातों के डेबिट और क्रेडिट शेषों के दुआरा तैयार किया जाता है  , Accounting Process class 11 in hindi

और यदि trail balance का डेबिट तथा क्रेडिट पक्ष का जोड़ एक समान नहीं रहता तो इसका मतलब ये है कि खाताबही मे खतौनी करते समय कोई गलती हो गयी है  ,  इसके दुआरा हम गलती को खोजते हैं और फिर उसमे सुधार करते है  , Trail balance वित्तीय विवरण बनाने मे भी सहायक होता है ।

इस पोस्ट Accounting Process class 11 in hindi मे हमने जाना कि Accounting Process क्या है और – से steps होते हैं , इसके  आपका कोई और  है तो आप हमे comment कर सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *